Click jacking क्या है click jacking कितना खतरनाक है click jacking की जानकारी हिंदी में

click jacking kya hai

आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे Click jacking के बारे में की यह क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है। और आपको Click jacking के बारे में पता भी होना चाहिए क्योंकि यदि आपको नही पता होगा तो आप इसके शिकार बन सकते है।

इसलिए हमारा प्रयाश रहता है कि आपको हर एक नई आर्टिकल के साथ कुछ  ऐसा दे सके जो सायद आपके लिए और आपके परिवार वालो के लिए फायदेमंद साबित हो सके और आप इसके शिकार होने से बच सके। तो चलिए जानते है Click jacking के बारे में।

आज के इस युग मे हर कोई pirated website सर्च करता है। फिर वो मूवी डाउनलोड करने के लिए हो या फिर कोई क्रेक सॉफ्टवेयर download करने के लिए और जब भी आप एक पाइरेटेड वेबसाइट पर जाते हो। तो शायद आप यही सोच कर जाते हो कि आपको उस वेबसाइट पर सब कुछ फ्री में मिलेगा और ऐसा होता भी है।

आपको फ्री में मूवी या फिर सॉफ्टवेयर मिल भी जाता है लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आपको इस तरह की pirated website से कितना नुकसान हो सकता है सायद आपने कभी नही सोचा होगा क्योंकि आपको को तो सिर्फ फ्री का सब कुछ चाहिए। 

आपने कभी नोटिस किया होगा कि जब कभी आप किशी पाइरेटेड वेबसाइट से मूवी download करते हो तो आप आप उस मूवी की लिंक पे क्लिक करते हो लेकिन वो लिंक आपको कही और रीडायरेक्ट कर देता है। यानी कि आपके कंप्यूटर या फिर मोबाइल पे कोई दूसरा वेबपेज ओपन हो जाता है।
 
और उसमें आपको कहा जाता है कि आपके मोबाइल में कोई antivirus नही है जिससे आपके मोबाइल में या फिर लैपटॉप में वायरस आ गया है इस वायरस हो हटाने के लिए आपको इस antivirus को इनस्टॉल करना होगा।

और आपका फ़ोन बाईब्रेट भी होने लगता है आप डर कर उस एंटीवायरस को इनस्टॉल कर लेते हो और इनस्टॉल करते ही आपके फ़ोन में वायरस चला जाता है क्योकि उस antivirus में  ही वायरस होता है और ये सब हुआ आपका पेज रीडायरेक्ट होने की वजह से।

Click-jacking क्या है।

Click-jacking एक तरीका होता है किशी भी वेबपेज पर click करवाने का और आप जिस पेज पर भी क्लिक करते हो वो असली पेज होता ही नही है। आप क्लिक तो उसी लिंक पर करोगे लेकिन जिस लिंक पे आप जाना चाहते हो वो लिंक ओपन नही होगी उसकी जगह कोई दूसरी लिंक ओपन हो जाएगी और आपसे आपके information पूछी जाएगी या फिर आपसे कोई file डाउनलोड करने को कही जाएगी।

और जब भी आप उस फ़ाइल को डाउनलोड करोगे तो उसके साथ आपके फ़ोन या फिर कंप्यूटर में वायरस भी इनस्टॉल हो जाता है। हालांकि ये सभी फ़ाइल के साथ वायरस download नही होता है। लेकिन पाइरेटेड वेबसाइट से आप डाउनलोड करते हो तो ऐसा जरूर हो सकता है।  और जब ऐसा होगा  तो आपका मोबाइल या फिर computers आपका नही रहेगा वो उस hacker का हो जाएगा जिसने वो वायरस आपके computer में वो वायरस डाउनलोड करवाया है।

Click-jacking कैसे की जाती है।

दोस्तो जब कभी आप किशी ऐसी वेबसाइट पे जाते जिसमे बहुत सारा ऐड होता है। तो आपने नोटिस किया होगा कि उस वेबसाइट पे रीडायरेक्ट की समस्या ज्यादा होती है क्योंकि उस ऐड में कुछ स्क्रिप्ट होते है जो आपको एक वेब पेज से दूसरे वेब पेज पे ले जाते है और बड़ी ही चालाकी से आपको वायरस से प्रभावित फ़ाइल को डाउनलोड करने को बोलते है।

अब आपके दिमाक में आता होगा होगा कि ये सब होता कैसे है। तो हम आपको बता दे कि की ये सब एक iframe स्क्रिप्ट के द्वारा होती है जिसका इस्तेमाल web devloper वेब पेज बनाने के लिए करते है। बेसिकली आप सिर्फ इतना जान लो कि iframe का इस्तेमाल वेब पेज की एक लेयर बनाने के लिए किया जाता है।

और इसी तरह एक हैकर एक ऐड से भरी वेबसाइट पर पर iframe का इस्तेमाल करके उस वेबसाइट पर एक लेयर बना देते है। और उसमें वो अपना लिंक डाल देते है। आपको पता भी नही चलेगा क्योकि हैकर आपको विल्कुल भी पता नही चलने नही देंगे कि उस वेब पेज पर एक दूसरी लेयर बनी हुई है।

और आपको पता तब चलेगा जब आप उस वेबसाइट के किशी पेज पर क्लिक करोगे। और तब वो पेज रीडायरेक्ट होके किशी दूसरी वेबसाइट पर चली जायेगी या फिर उसी वेबसाइट पे आपको कुछ नोटिस आएगा कि आपके फ़ोन में वायरस आ गया है आप इस एंटीवायरस को डाउनलोड कर के उस वायरस को निकाल सकते हो और फिर आपका फ़ोन वायब्रैट होने लगेगा जिससे आप डर कर उस एंटीवायरस को डाउनलोड कर लोगे और फिर वो वायरस आपकी फ़ोन की ऐसी की तैसी कर देगा।

Click jacking कितना खतरनाक है।

दोस्तो इसका पता तो आप लोग लगा सकते हो कि जब आपके फ़ोन या फिर आपके कंप्यूटर में एक ऐसा वायरस चला गया हो। जिसका आपको अता पता भी नही है तो सोचो ऐसे में वो हैकर आपके फ़ोन के साथ क्या करेगा जिसकी वजह से आपके फ़ोन में वायरस आया है। वो हैकर तो आपके फ़ोन या फिर कंप्यूटर का बलात्कार ही कर देगा।

दोस्तो अब जान लेते है कि क्या होगा जब आप मजे के लिए किशी वायरस से अफ्फेक्टेड वेबसाइट पर जाते हो तो आपके और हमारे साथ क्या हो सकता है  जो नीचे एक एक करके अच्छे से दिया गया है।

1. यदि आप किशी ऐसी वेबसाइट पर जाते हो जहाँ पर हैकर पहले से ही घात लगाए हुए बैठे है। तो वो हैकर click jacking के जरिये आपके फ़ोन में कुछ डाउनलोड या फिर इनस्टॉल करवा देगा यदि आप आप इसके बारे में न जानते हो तो।

2. क्लिक जैकिंग के जरिये hacker आपके कंप्यूटर को अपने कंट्रोल में कर सकते है। जिससे आपका कंप्यूटर फिर आपका कंप्यूटर नही रह जाएगा। क्योकि आपके कंप्यूटर में वायरस पुंगी मार कर बैठा हुआ है। जो अपने मालिक को आपके कंप्यूटर की जानकारी देता रहता है।

3. क्लिक जैकिंग से आपके बैंक एकाउंट भी खाली हो सकता है। क्योंकि वो आपको इस तरह से अपनी जाल में फसायेंगे की आप बड़ी ही आसानी से अपना सब कुछ उनके ऊपर न्यौछावर कर दोगे। क्योकि आप उनके मछली पकड़ने वाले जाल में फस चुके है। आप इन सब से बच सकते है यदि आपको इनके बारे में पता हो

Click jacking से कैसे बचा जा सकता है।

दोस्तो इतना दिमाक तो आप सबके पास तो होगा ही कि यदि किशी भी चीज से बचना हो तो उसके बारे में जानकारी होनी बहुत ही जरूरी है। क्योंकि यदि आप तैरना नही जानते तो समुन्द्र में कूदने से आपका राम नाम स्वाहा हो जाएगा।

और इसी तरह यदि आपको click jacking से बचना है तो आपको क्लिक jacking के बारे में पता होना चाहिए तभी आप इसका शिकार होने से बच सकते है। और आप अपने आप को सुरछित कर सकते हो। आप यदि click jacking से बचना चाहते हो यो आपको नीचे लिखे गए नियमो का पालन करना होगा तभी आप इससे बच सकते है।

1. सबसे पहले आपको उन वेबसाइट पे बिल्कुल भी नही जाना चाहिए जो आपको भर भर के ऐड दिखाते है क्योंकि इन्ही वेबसाइटो पर click jacking का ज्यादा खतरा रहता है।

2. यदि आप किशी ऐसी वेबसाइट पे जाते भी हो जाहा बहुत सारा ऐड हो तो उस वेबसाइट पे जाने से पहले ad blocker ऑन कर लो और किशी भी हालत में ऑफ़ मत करना नही तो उस वेबसाइट के ऐड आपको ऑफ कर देंगे।

3. जब कभी आपको ये लगे कि आपका ad blocker किशी वेबसाइट पे काम नही कर रहा है तो आपको उस वेबसाइट से तुरंत निकल जाना चाहिए नही तो आपको उसकी चपेट में आने से कोई नही रोक सकता है।

निष्कर्ष

दोस्तो मुझे उम्मीद है कि आपको अब click jacking के बारे में पता चल गया होगा। यदि आपका आपको इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद भी click jacking के बारे में कुछ समझ मे न आया हो तो आप हमसे बिना सरमाये हुआ कमेन्ट कर के पूछ सकते है। चलो दोस्तो मैं आपको थोड़ा सा अपने बारे में बताता हूं कि कैसे मैं click jacking का शिकार हुए था।

एक बार की बात है जब मेरे जेब में एक फूटी कौड़ी भी नही थी और मुझे microsoft office खरीदना था तो मैंने एक पायरेटेड वेबसाइट विजिट किया और मैंने सर्च बार मे microsoft office लिख कर सर्च किया और जैसे ही सर्च किया मेरा फ़ोन वाईब्रैट होने लगा और उस समय मैं डर गया और तभी कुछ देर बाद मैंने देखा कि मेरे फ़ोन स्क्रीन पर आफर की बाढ़ आई हुई है।

मैंने देखा कि मेरे फ़ोन स्क्रीन पर एक आफर लिखा था और वो आफर था कि यदि आप इस एन्टी वायरस को डाउनलोड करोगे तो आपको 1000 का paytm कैश दिया जाएगा। मैं आपसे बता रहा हु की मुझे ऐसा लगा कि जैसे किशी प्यासे को पानी मिल गया हो।

मैंने फाटक से उस एन्टी वायरस को डाउनलोड कर लिया और डाउनलोड करते ही मेरे फ़ोन की बैंड बज चुकी थी मेरा फ़ोन स्विच ऑफ हो गया और आज तक नही खुला मैंने कई बार हार्ड फॉर्मेट करने की कोसिस की पर नही हुआ और फिर मैंने भंगार वाले को दे दिया। और कहा जा भाई जी ले अपनी जिंदगी।

इन्हें भी पढ़े

Click bait क्या है। click bait कैसे किया जाता है click bait की पूरी जानकारी
Penetration testing kya hai penetration testing kaise karte hai
Bug bounty kya hai bug bounty se paise kaise kamaye
Domain name kya hota hai domain name ke bare me puri jankari

अपनी प्रतिक्रिया दें।

अपनी टिप्पणी यहाँ दर्ज करें ...
अपना नाम यहा दर्ज करें...